सोमवार, 16 मार्च 2020

नातिया शायरी की तरक्की में हिन्दू शायरों का भी बड़ा योगदान: गौहर

                                                           

डाॅ. शमीम गौहर से बातचीत करते अख़्तर अज़ीज़ और इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी 

डाॅ. शमीम गौहर का बचपन से नात के प्रति प्रेम रहा है। बचपन से ही नात लिखना शुरू कर दिया था। आपकी सबसे पहली किताब ‘नात के शोअरा मुतद्मीन’ है, जिसमें नात के शोअरा के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। दूसरी किताब का नाम ‘उर्दू अदब में नातिया शायरी’, जो बहुत मक़बूल हुई, इसका दूसरा एडीशन पाकिस्तान में प्रकाशित हुआ। डाॅ. गौहर ने ‘नात’ पर ही शोध कार्य किया है। इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी, अख़्तर अज़ीज़ और दीक्षा केसरवानी ने उसने विस्तृत बात की। पेश है उसका संपादित भाग।
सवाल: नातिया शायरी क्या है? इसकी शुरूआत कब और कैसे हुई ?
जवाब: जबसे हजरत आदम दुनिया में तशरीफ़ लाए, तभी से नातिया शायरी की शुरूआत हो गई थी। एक ज़माना रसूल्लाह सल्ल. का आया, असली रूप में जो इस्लाम मज़हब क़ायम हुआ वह रसूल्लाह सल्ल. के दुनिया में आने के बाद ही हुआ। इससे पहले अरब में शायरी हो रही थी, जमाने जाहिली में भी खूब शायरी होती थी, हर घर में शायरी होती थी। यहां तक कि मोतनब्बी ने अपनी शायरी के दम पर ही नबुवत का दावा कर दिया था। जब अल्लाह के रसूल तशरीफ़ लाए, और शायराना के तौर से जब हस्सान बिन साबिर ने जब क़सीदा पढ़ा, उनकी शायरी से पूरे अरब में तहलका मच गया कि क्या इतनी खूबसूरत शायरी भी हो सकती है नात की शक्ल में। सैकड़ों साल बाद जब हिन्दुस्तान में नातिया शायरी की शुरूआत हुई तो हमारे उर्दू के शायरों ने नातिया अदब की जो तबाआज़माई की, दुनिया के किसी अन्य ज़बान में ऐसी शायरी नहीं हुई है।
सवाल: इस्लाम मज़हब में नातिया शायरी की क्या अहमियत है ?
जवाब: नातिया शायरी इतना आदाब, तहज़ीब और रवायात में बंधी हुई कि इससे हमें इस्लाम का पता चल जाता है, इश्क़ रसूल का पता चलता है, तारीख़े-इस्लाम का पता चलता है, सहाबा इकराम की फ़ज़ीलत का पता चल जाता है। हमारे नातगो शायरों ने अपनी शायरी में इसका इज़हार किया है कि अल्लाह के रसूल मेराज पर तशरीफ़ ले गए तो उसका क्या मर्तबा है। रसूल करीम की एक-एक ज़िन्दगी के लम्हे को हमारे शोअरा ने नात में पिरोने की कोशिश की। सिर्फ़ नातिया शायरी का अगर आप अध्ययन करें तो हम अपनी दीनी इस्लाह कर सकते हैं, नातिया शायरी हमारी रहबरी करती है, नातिया शायरी हमें तारीक़ियों से रोशनी में ले जाती है।
सवाल: नातिया शायरी आम तौर पर मदरसों-खानकाहों की ही ज़ीनत बनी रही, ऐसा क्यों ?
जवाब: अब वो वक़्त नहीं रहा। अब आम लोगों के बीच भी नातिया शायरी मक़बूल हो रही है। जहां-जहां मज़हबी काम हो रहे हैं, वहां तो नातिया शायरी हो रही है। हालांकि बड़े अफ़सोस के साथ कहना पड़ता कि तमाम बड़़े-बड़े शायरों ने नात के एक शेर भी नहीं कहे हैं। बशीर बद्र, आदिल मंसूरी, निदा फ़ाज़ली, हसन नईम वगैरह लोगों ने एक भी नात नहीं कहे। यह बहुत अफ़सोस की बात है।
सवाल: बहुत से ग़ैर मुस्लिम शायरों ने बाक़यादा नातिया शायरी की है? इस बारे में आपका क्या सोचना है। 
जवाब: 1938 के बाद तरक्की पसंद की जब तहरीक चली, तो उसमें नए अदब को पेश करने की कोशिश की गई। इसके साथ-साथ मज़हब की तौहीन इस तरह से की गई कि ‘अवारा सज्दे’ के नाम से किताब तक छप गई। मौलवियों पर तनकीद करना, मज़हब पर तनकीद करना। अगर किसी बुड्ढे मौलवी ने अगर किसी नौजवान लड़की से शादी कर लिया तो उसकी तनकीद की गई, जब उसने शादी कर लिया तो क्या आप उसकी देखभाल करेंगे, आप उसकी ज़रूरतें पूरी करें। इसमें गैर शरई मसला क्या है। ऐसे माहौल में हिंदू शायर नातिया शायरी कर रहे थे। लल्लू राम कौसरी, किश्वर शाह समेत तमाम हिन्दू शायरों के नातिया मजमुए तक छपे हैं। जितने भी उर्दू जानने वाले हिन्दू शायर हैं, उन्होंने नातिया कलाम ज़रूर कहे हैं। नातिया शायरी की तरक्की में हिन्दू शायरों का बहुत बड़ा योगदान है। हिंदू शायरों की नातिया शायरी पर अब तक दो थिसिस भी आ चुकी हैं।
सवाल: भारत में नातिया शायरी करने वाले बड़े शायर कौन-कौन हुए हैं ?
जवाब: शोहराए मुतकद्मीन ने तो कोई नातिया शायरी की नहीं। वली दकनी, सिराज औरंगाबादी, मरी तक़ी मीर, आतिश, सौदा, नासिख़, ज़ौक़, ग़ालिब ने नात के प्रति कभी रूझान नहीं पैदा किया। सिर्फ़ जब इनका कोई ग़ज़ल या नज़्म का मजमुआ छपता था, तब तबर्रुक के तौर पर शुरू में एक नात शामिल कर लेते थे। लेेकिन सिन्फ़ नात इनका कभी मौजू नहीं रहा। सौदा ने 32 अश्आर का एक नात लिखा है, शोहराए मुतकद्मीन में सिर्फ़ सौदा ने नात कहा है। नातिया शायरी को उरूज़ तक पहुंचाने में आला हज़रत फ़ाजिले बरेलवी इमाम अहमद रज़ा का बहुत बड़ा योगदान है। उनकी नातिया शायरी से किसी अन्य शायर का मुक़ाबला नहीं किया जा सकता। उनका योगदान सबसे ज़्यादा है।
सवाल: अरब और दूसरे देशों में नातिया शायरी के क्या हालात हैं ?
जवाब: जब अरब से शायरी फारस पहुंची तो वहां से लोगों ने इतना जोरदार स्वागत किया कि थोड़े ही वक़्फे के बाद ईरान और फारस से बड़े-बड़े शोअरा पैदा हुए। वहीं से हाफ़िज़ सेराजी, हजरत शेख शादी, हक़ानी जैसे बड़े-बड़े शायर पैदा हुए। 
सवाल: इलाहाबाद में किन शायरों के मजमुए छपे हैं?
जवाब: इस पर डाॅ. असलम इलाहाबादी ने थिसिस लिखा है, जिसमें पूरा डिटेल हैं। मेरी जानकारी में सरवर इलाहाबादी, राज इलाहाबादी, शम्स इलाहाबादी, अज़ीज़ इलाहाबादी, इक़बाल दानिश, तुफ़ैल अहमद मदनी, अतीक़ इलाहाबाद, मौलाना मुजाहिद हुसैन, अख़्तर अज़ीज़ आदि के अलावा मेरे मजममुए आए हैं।   
( गुफ़्तगू के अक्तूबर-दिसंबर 2019 अंक में प्रकाशित )


1 टिप्पणियाँ:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (18-03-2020) को    "ऐ कोरोना वाले वायरस"    (चर्चा अंक 3644)    पर भी होगी। 
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
 -- 
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

एक टिप्पणी भेजें