शनिवार, 15 मार्च 2014

!!! गुफ्तगू के मार्च-2014 अंक में !!!

3.ख़ास ग़ज़लें - हसरत मोहानी, शकेब जलाली, परवीन शाकिर, अदम गोण्डवीं
4-5. संपादकीय- यह कैसी प्रगतिशीलता
ग़ज़लें-
7.मुजफ्फर हनफ़ी, मुनव्वर राना, वसीम बरेलवी, इब्राहीम अश्क
8.एम.ए. क़दीर, किशन स्वरूप, नज़र कानपु
री, हसनैन मुस्तफ़ाबादी
9.सागर होशियारपुरी, अब्बास खान ‘संगदिल’,अख़्तर अज़ीज़, सजीवन मयंक
10.शफ़ीक रायपुरी, पूनम शुक्ला, नरेश कुमार ‘महरानी’,पीयूष मिश्र
11.मिसदाक आज़मी, डा. सूर्य प्रकाश ‘सूरज’,ओम प्रकाश यती, चंद्र प्रकाश माया
12.अनुपिन्द्र सिंह ‘अनूप’, सेवाराम गुप्ता ‘प्रत्यूष’, राकेश मलहोत्रा नुदरत, विवके त्रिपाठी
13.अमित कुमार दुबे, अजय कुमार

कवितायें-
14.फ़िराक़ गोरखपुरी
15.कैलाश गौतम, यश मालवीय, शिवपूजन सिंह
16.नंदल हितैषी, जयकृष्ण राय तुषार
17.ब्रजेंद्र त्रिपाठी

18-19.तआरुफ़- संजू शब्दिता
20-22.विशेष लेख- साहित्य में आलोचना की चिंता- डा.सादिका नवाब ‘सहर
23-27.इंटरव्यू- फ़हमीदा रियाज़
28-30.चौपाल- इलेक्टानिक मीडिया के बूम से पठनीयता पर असर?
31-34.तब्सेरा- ग़ज़ल के साथ, सूरज के बीज, कहानी कोई सुनाओ मिताशा
35-38.कहानी- सच्चा सपना-चंद्र प्रकाश पांडेय
39-40.गुलशन-ए-इलाबाहाबाद: शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी
41.बशीर बद्र की ग़ज़लें
42-45.अदबी ख़बरें
46-50.डा. नरेश सागर के सौ शेर
परिशिष्टः नवाब शाहाबादी
51.नवाब शाहाबादी का परिचय
52-53.नवाब शाहाबादी की कुंडलियां-प्रो. सोम ठाकुर
54-56. दुनिया की फिक्र जिन्हें वो असली शायर-रविनंदन सिंह
57.कुछ अपनी कलम से
58-84.नवाब शाहाबादी की कुंडलियां
 

1 टिप्पणियाँ:

sanju shabdita ने कहा…

आपका बहुत बहुत धन्यवाद सर जो आपने हमें इस अंक में स्थान दिया

एक टिप्पणी भेजें