सोमवार, 14 दिसंबर 2020

गुफ़्तगू के जमादार धीरज विशेषांक (दिसंबर 2020 अंक) में



3. संपादकीय (ठीक ढंग से हो जमादार धीरज का मूल्यांकन)

4. पाठकों के पत्र

5-8. जमादार धीरज की कुछ स्मृतियां - माता प्रसाद

9. पापा को हम कैसे भूल पाएंगे - शीला सरन धीरज

10. आधा घंटे पहले पापा से हुई थी बात -उर्मिला सिंह

11-12. ...परंतु चमक अब भी आसपास है- मधुबाला धीरज

13. ‘तुम लोग घबराते क्यों हो, मैं हूं’- नीलम चंद्रा धीरज

14. हमारे मामाजी- डाॅ. रमेश कुमार

15-17. खड़ी बोली के साथ लोकभाषा में भी महारत- प्रो. सोम ठाकुर

18-21. रचनाओं में जीवन-जगत का अद्यतन स्वरूप् - अमरनाथ श्रीवास्तव

21. करुणामयी रस घोलते गीत - मनमोहन सिह तन्हा

22-24. प्रभावशाली अभिव्यक्ति के समर्थ कवि धीरज- विजय लक्ष्मी विभा

25-27. संवदना समर्पित जमादार धीरज की काव्य रचना- श्याम विद्यार्थी

28-29. एक अद्भुत व्यक्तित्व जमादार धीरज- सतीश आर्य

30-31. व्यक्तित्व से भी जीता दिल- इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी

32-33. सौम्य, सुशील जमादार धीरज- तलब जौनपुरी

34-35. सत्य पर आधारित जीवन दर्शन- सुरेश चंद्र द्विवेदी

36-37. भाव आते रहे, गुनगुनाते रहे- शैलेंद्र जय

38-40. जमादार धीरज-प्रयागराज की शान- डाॅ. रीता पांडेय ‘स्नेहा’ 

41-44. सृजन पताका पर मौत पड़ता है भारी- अनिल मानव

45-46. समाज की कुरीतियों से टकराते हैं जमादार धीरज- डाॅ. नीलिमा मिश्रा

47-48. उपेक्षित वर्ग के कवि थे जमादार धीरज-  उदय राज वर्मा ‘उदय’

49. प्रेरणास्रोत कवि जमादार धीरज- इसरार अहमद

50. कविताओं के जरिए सुंदर मूर्ति गढ़ने वाले कवि - शगुफ़्ता रहमान

51. गीतों में जीवन के कटु सत्य - नीना मोहन श्रीवास्तव

52. खड़ी बोली के साथ अवधी भाषा में भी महारत- रचना सक्सेना

53. हर कदम आंसुओं से भिगोता रहा- अर्चना जायसवाल

54-56. इंटरव्यू (गोपीकृष्ण श्रीवास्तव से अनिल मानव)

57-60. कविताएं (डाॅ. वीरेंद्र कुमार तिवारी, मधुबाला गौतम, मिठी मोहन, शगुफ़्ता रहमान)

61. जमादार धीरज का परिचय

62-64. जमादार धीरज की यादें

65-96. जमादार धीरज की कविताएं

97-100. तब्सेरा (काव्य व्याकरण, सपनों का सम्मान, सहरा के फूल, मुनिसुतायन)

101-102. उर्दू अदब (लाॅकडाउन के 55 दिन, तन्हाइयां)

103-104. गुलशन-ए-इलाहाबाद (आसिफ़ उस्मानी)

105-106. ग़ाज़ीपुर के वीर (हारुन रशीद)

107-108. खि़राज़-अक़ीदत (काॅमरेड ज़ियाउल हक़)

109-111. अदबी ख़बरें

112. नवांकुर (विभु सागर)


0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें