गुरुवार, 7 जुलाई 2016

महिला विशेषांक-2 के लिए रचनाएं आमंत्रित


चयनिय 11 रचनाकारों को मिलेगा ‘सुभद्रा कुमारी चौहान सम्मान’

इलाहाबाद। ‘गुफ्तगू’ के महिला विशेषांक-2 महिलाओं से रचनाएं आमंत्रित की जा रही हैं। इस अंक के लिए कविता, गीत, ग़ज़ल, दोहे, लधुकथा आदि रचनाएं भेजी जा सकती हैं। इसके अलावा महादेवी वर्मा, सुभद्रा कुमारी चौहान, परवीन शाकिर, कुर्तुलएन हैदर, रशीद जहंा आदि महिला रचनाकारों पर लेख भेजे जा सकते हैं, लेख लिखने से पहले हमसे बात ज़रूर कर लें। वर्ष 2010 से 2016 तक के बीच जिन महिला रचनाकारों की पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं, उसकी समीक्षा प्रकाशित करवाने के लिए दो प्रतियां भेंजे। रचना के साथ अपना पूरा नाम, डाक का पता, मोबाइल नंबर और पासपोर्ट साइज फोटा पंजीकृत डाक, कोरियर या ई-मेल से भेंजे। इस अंक में प्रकाशित में सभी रचनाकारों में से 11 लोगों का चयन ‘सुभद्रा कुुमारी चौहान’ सम्मान के लिए किया जाएगा। पत्रिका में रचना प्रकाशन के लिए कोई शुल्क नहीं देना है, लेकिन हम पत्रिका किसी को मुफ्त में नहीं देते, इसलिए पत्रिका प्राप्ति के लिए ‘गुफ्तगू’ की सदस्यता लेना आवश्यक है। ‘गुफ्तगू’ की ढाई वर्ष की सदस्यता शुल्क 200 रुपये, आजीवन 2100 रुपये और संरक्षक शुल्क 15000 रुपये है। आजीवन और संरक्षक सदस्यों को ‘गुफ्तगू पब्लिकेशन’ की सभी पुस्तकें और ‘गुफ्तगू’ के उपलब्ध पुराने अंक दिए जाते हैं। संरक्षक सदस्यों को पूरा परिचय फोटा सहित हम एक अंक में प्रकाशित करते हैं, इसके बाद हर अंक में नाम छपता है। निधन के बाद भी हम संरक्षक सदस्यों का नाम ‘संस्थापक सरंक्षक’ के अंतर्गत प्रकाशित करते हैं, उनका नाम कभी हटाया नहीं जाता।
last date : 31 aug 2016
सदस्यता शुल्क मनीआर्डर, चेक या सीधे ‘गुफ्तगू’ के एकाउंट पैसा जमाकर भेंजे। इसकी सूचना मोबाइल नंबर 9889316790 पर ज़रूर दें।
एकाउंट नेम. GUFTGU
एकाउंट नंबर: 538701010200050
यूनियन बैंक आफ इंडियाए प्रीतमनगरए इलाहाबाद
IFSC CODE - UBIN 0553875
editor-guftgu
123A/1 harwara, dhoomanganj
Allahabad-211011

Email; guftgu007@gmail.com

1 टिप्पणियाँ:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-07-2016) को  "आया है चौमास" (चर्चा अंक-2398)     पर भी होगी। 
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

एक टिप्पणी भेजें