शनिवार, 3 सितंबर 2011

गुफ़्तगू के सितंबर 2011 अंक में

3. ख़ास ग़ज़लें ( अकबर इलाहाबादी, फैज़ अहमद फैज़, मज़रूह सुल्तानपुरी. फ़िराक गोरखपुरी )
4. आपकी बात
5-6.सम्पादकीय ( साहित्यिक पत्रिकाओं को सरकारी विज्ञापन क्यों नहीं)
ग़ज़लें
7.शकेब ज़लाली, बशीर बद्र, इब्राहीम अश्क, मुनव्वर राना
8.मुजाहिद फराज़,नूर अमरोही,गौस मथुरावी,ताहिर फराज़
9.सागर होशियारपुरी,तलअत खुर्शीद,लोक सेतिया,वाकिफ अंसारी
10.जाल अंसारी,उषा यादव उषा,शिवशरण अंशुमाली,शुशील कुमार गौतम
11.जय कृष्ण राय तुषार, रमेश नाचीज़
12.दुर्गेश कलम,गौतम राजरिशी,शमीम इटावी,चंद्रा लखनवी,
13. सत्य प्रकाश शर्मा,सरदार पंछी,सगीर अशरफ,धर्मेन्द्र गुप्त साहिल
कवितायें
14.सुलतान अहमद अंसारी,सायमा अंसारी
15.शिबली सना,जसप्रीत फलक
16.पंकज कुमार अनिल,यस.वाई.सहर, पंकज मिश्र अटल
30. अमर नाथ त्रिपाठी अमर
17-18.अदबी ख़बरें
19-20.तआरुफ़ ( एम.वसीम अकरम)
21-23. इंटरव्यू ( संजय मासूम)
24-27.राही मासूम राजा:यह मशाल जलती रहेगी- रविनंदन सिंह
28-30.भारत की गंगा-जमुना तहजीब के रचनाकार-बद्री नारायण तिवारी
31-32. चौपाल:साहित्यिक पुस्तकों की कीमत इतनी अधिक क्यों ( माहेश्वर तिवारी,मुनव्वर राना,एहतराम इस्लाम,सुरेन्द्र विक्रम,श्याम सुंदर निगम)
33-35.पत्रकारिता की जीवंत प्रतिमूर्ति बी.यस.दत्ता-विजयशंकर पाण्डेय
36-40.कहानी:वक्त ने छीन ली मुस्कुराहटें- अंसारी एम ज़ाकिर
41इल्मे काफिया भाग:7- आर.पी.शर्मा महरिष
42-44.तबसेरा(भाव निर्झर,इफ्हाम,जीवोक्रेसी,चलती है पीछे-पीछे परछाई मेरी)
45-47. मुनव्वर राना के सौ शेर
48. संस्मरण:सूर्यकांत त्रिपाठी निराला- इम्तियाज़ अहमद गाज़ी
परिशिष्ट:जलाल फूलपुरी
49. जलाल फूलपुरी का परिचय
50-51.गंगा-जामुनी तहजीब के रचनाकार-श्लेष गौतम
52.बेहतरीन रचनाकार-विजयशंकर पाण्डेय
53-80. जलाल फूलपुरी के कलाम



1 टिप्पणियाँ:

वीनस केशरी ने कहा…

बहुप्रतीक्षीत अंक

एक टिप्पणी भेजें